शुभ मुहूर्त के योग

शुभ मुहूर्त के योग

किसी कार्य को करने के लिए निम्न योग शुभ होते हैं 

१.अमृत सिद्धि योग 

यदि निम्न वार को निम्न नक्षत्र हो तो अमृत सिद्धि योग होता है 

रविवार को हस्त नक्षत्र 

सोमवार को मृगशिरा नक्षत्र 

मंगलवार को अश्वनी नक्षत्र 

बुधवार को अनुराधा नक्षत्र 

बृहस्पतिवार को पुष्य नक्षत्र 

शुक्रवार को रेवती नक्षत्र 

शनिवार को रोहिणी नक्षत्र 

२. सर्वार्थ सिद्धि योग 

रविवार को हस्त, मुला, उत्तराफाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा, उत्तराभाद्रपद, पुष्य, अश्लेषा 

सोमवार को श्रवण, रोहिणी, मृगशिरा, पुष्य, अनुराधा

मंगलवार को अश्वनी, उत्तराभाद्रपद, कृतिका अश्लेषा 

बुधवार को रोहिणी, अनुराधा, हस्त, कृतिका, मृगशिरा,

बृस्पतिवार को रेवती, अनुराधा, अश्वनी, पुनर्वसु, पुष्य 

शुक्रवार को रेवती, अनुरधन, अश्वनी, पुनर्वसु, श्रवण 

शनिवार को श्रवण, रोहिणी, स्वाति 

३.त्रि पुष्कर योग 

यदि रविवार, मंगलवार या शनिवार को भद्रा तिथि (द्वतीया, सप्तमी या द्वादशी) हो और त्रि पाद नक्षत्र (सूर्य के कृतिका,उत्तर फाल्गुनी, उत्तराषाढ़ा या बृहस्पति के पुनर्वसु, विशाखा या पूर्वा भाद्रपद ) हो तो त्रि पुष्कर योग होता है 

४.द्विपुष्कर योग 

यदि रविवार, मंगलवार या शनिवार को भद्रा तिथि (द्वतीया, सप्तमी या द्वादशी) हो और द्वी पाद नक्षत्र (मंगल के मृगशिरा, चित्रा या धनिष्ठा ) हो तो द्वी पुष्कर योग होता है 

५. सूर्य योग 

सूर्य गोचर के समय जिस नक्षता मैं है उस समय चन्द्रमा का नक्षत्र सूर्य के नक्षत्र से ४, ६, 9, १०, १३, या २० वां हो तो सूर्य योग होता है 

६. रवि पुष्य योग 

यदि रविवार को पुष्य तो रवि पुष्य योग होता है 

७. गुरु पुष्य योग 

यदि गुरुवार को पुष्य योग हो तो गुरुपुष्य योग होता है 

 

 

 

Latest Tweets

Follow us on Facebook

www.repldradvice.com